Tweet about this on TwitterShare on FacebookPin on PinterestShare on LinkedInShare on WhatsAppShare on WhatsApp

रोज साहिल से समंदर का नजारा न करो,
अपनी सूरत को शबो-रोज निहारा न करो,
आओ देखो मेरी नजरों में उतर कर खुद को,
आइना हूँ मैं तेरा मुझसे किनारा न करो ।

Latest Posts